शीतला सप्तमी स्पेशल – मीठा ओलिया व नमकीन ओलिया

3
views

ओलिया शीतला सप्तमी/अष्टमी के त्यौहार पर बनाये जाने वाले व्यंजन में से एक होता है। शीतला सप्तमी/अष्टमी को ओलिया एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता क्योंकि इस दिन जो ओलिया बनाता है उसकी वास्तव में बात ही कुछ अलग होती है।

मीठा ओलिया (चावल व दही का) व नमकीन ओलिया (घाट व दही का) बनाया जाता है। मीठा ओलिया चावल तथा दही के मिश्रण से बनाया जाता है। आपको जानकर आश्चर्य होगा की दही चावल का ओलिया विटामिन B-12 का एक अच्छा स्रोत होता है। शाकाहारी भोजन में बहुत कम चीजोंसे विटामिन B012 मिलता है। अतः दही युक्त ओलिया जरूर खाना चाहिए।


मीठा ओलिया (चावल व दही वाला) बनाने की विधि 
* चावल – 250 ग्राम
* पानी – 750 मिली
* दही – 400 ग्राम
* चीनी – 250 ग्राम
* बादाम – 10 नग
* काजू – 10 से 12 नग
* किशमिश – 5 नग
* पिस्ता – 2 नग
* केसर – 5 से 6 लच्छे
* घी – 1/4 चम्मच
विधि:-
# चावल को धो कर आधा घण्टे के लिए भिगो दें।
# बादाम , पिस्ता की कतरन कर लें। काजू के टुकड़े कर लें।
# इलायची की छीलकर पीस लें।
# किशमिश को पानी से धो लें।
# केसर को थोड़ी देर दो चम्मच पानी में भिगोने के बाद खरल में घोंट लें।
# एक बर्तन में तीन गिलास पानी डालकर उबलने के लिए रखें।
# पानी उबलने के बाद चावल व घी डालें और पकने दें।
# जब चावल पक जाए तो चावल का अतिरक्त पानी छानकर मांड निकाल दें।
# मांड निकालने के बाद चावल में दही ,शक्कर , केसर , पिसी इलायची व मेवे डालकर मिला लें।
# मीठा ओलिया तैयार हैं।

नमकीन ओलिया (घाट व दही वाला) बनाने की विधि 
* मक्का का दलीय – 1 कप
* पानी – 3 कप
* दही – 3 कप
* राई पिसी – 1 चुटकी
* जीरा पिसा – 1 चुटकी
* नमक – स्वादानुसार

विधि:-
# मक्का का दलिया साफ कर लें।
# कुकर में तीन कप पानी उबालें। पानी उबल जाने के बाद मक्का का दलिया कुकर में डालकर कुकर का ढक्कन बन्द कर दें।
# कुकर की एक सीटी बजने के बाद गैस धीरे कर दे और धीमी आंच पर दस मिनिट पकने दें।
# दस मिनिट पकाने के बाद गैस बन्द करके कुकर ठंडा होने दें।
# ठंडा होने पर चम्मच से हिला कर थोड़ा मैश कर लें।
# घाट तैयार हैं पूरा ठंडा होने पर मथा हुआ दही डालकर मिलाए।
# घाट व दही अच्छी तरह मिलाकर इसमें पिसी राई , पिसा जीरा और नमक मिला दें।
# घाट का ओलिया तैयार है।

सोर्स: दादीमाँकेनुस्खे


क्लिक करे और जाने की शीतला सप्तमी/अष्टमी पर शीतला माता की पूजा और बासोड़ा।

Like this article? Or have something to share? Write to us: hibhilwara.com@gmail.com, or connect with us on Facebook and Twitter (@HiBhilwara)