बनिए फिट और फुर्तीले 30 दिन में

7
views

आजकल ज्यादातर लोग अपने मोटापे से परेशान हैं। वजन कम करने के लिए कई तरह के डाइट प्‍लान प्रचलित हैं। इसी तरह एक डाइट प्‍लान का दावा है कि इसे अपनाने के मात्र 30 दिनों के बाद शरीर एकदम फिट हो जाता है। जानिए इस डाइट प्‍लान का नाम और कैसे करती है ये अपना काम।

30 दिनों तक चलने वाली इस डाइट योजना में पूरे 30 दिन तक न तो खानपान की गिनती की जाती है, न ही आपका वजन मापा जाता है। लेकिन इन 30 दिनों में आपको ताजे और अच्छी गुणवत्ता वाले फल और आहार खाने होते हैं। प्रोसेस्ड फूड जिनका चलन आजकल अधिक है, उससे दूरी बनाकर रखना होता है। इसके साथ ही डेयरी उत्पाद, सोया, शुगर, ऑर्टिफिशियल शुगर और एल्कोहल को अपने डाइट से निकालना होता है।

इस डाइट के दौरान आपके प्लेट में ताजी सब्जियां, मांस, अंडे, ताजे फल और हेल्दी फैट होगा। हर तरह के आलू का सेवन कर सकते हैं। डेयरी उत्पाद नहीं ले सकते, लेकिन घी और बटर अगर लैक्टोज मुक्त हैं तो आप ले सकते हैं। प्रासेस्ड आहारों का सेवन नहीं कर सकते, आर्गेनिक फूड का सेवन करने पर जोर दिया जाता है।

इसके बारे में पढ़ने के बाद अगर आपको लगता है कि यह डाइट प्‍लान बहुत कठिन है तो आप गलत हैं। क्योंकि मादक द्रव्यों को छोड़ना मुश्किल है, कैंसर को हराना मुश्किल है, डायबिटीज को नियंत्रित रखना मुश्किल है। इन सबकी तुलना में यह डाइट प्‍लान बहुत ही आसान है जो आपको हेल्दी रखता है।

# ब्रेकफास्ट – सुबह का नास्ता प्रोटीनयुक्त होना चाहिए। इसलिए आप अंडे का सेवन करें। सलाद बनाकर खायें। पेय के लिए कॉफी या चाय की जगह सूप का प्रयोग करें।

# लंच – लंच में बहुत अधिक भारी खाने से बचें। इस दौरान विभिन्न तरह के सलाद का सेवन करें। अपने पसंदीदा पत्तेदार और हरी सब्जियों का सलाद बनायें और उसका सेवन लंच के दौरान करें।

# डिनर – अगर आप नॉनवेज खाते हैं तो रात में इसे आप खा सकते हैं। विभिन्न तरह के सूप बनाकर पियें। सलाद आपके डिनर में भी होना चाहिए। इस समय ऐसा खायें जो आसानी से पच जाये।

# स्नैक्स – लंच और डिनर के बीच में स्नैक्स जरूरी है। स्नैक्स के रूप में गाजर आपके लिए एक बेहतर विकल्‍प है। इसके अलावा ताजे फलों का सेवन कर सकते हैं, मुट्ठीभर सूखे मेवे भी खा सकते हैं।

# पेय – नींबू पानी पियें, नारियल पानी पियें, और चाय कॉफी की जगह हर्बल टी पियें। दिन में एक कप कॉफी पी सकते हैं।

इस डाइट को अपनाने के दौरान आपको शुरू में समस्या हो सकती है। खासकर पहले सप्ताह में अधिक दिक्कत होगी। धीरे-धीरे स्थिति सामान्य होने लगेगी और इसकी आदत आपको पड़ जायेगी। इसकी शुरूआत के दिनों आलस, थकान, आदि समस्या भी हो सकती है, लेकिन यह खराब लक्षण नहीं हैं। इस डाइट को शुरू करने के बाद दूसरे सप्ताह से आपको बेहतर एहसास होने लगेगा।

हृदय रोगों का मूल कारण कॉलेस्ट्रोल होता है। हृदय की रक्त शिराओं में जब कॉलेस्ट्रोल जमा हो जाता है तो हृदय से संबंधित बीमारियां शुरू हो जाती हैं। पपीते में फाइबर, विटामिन सी और एंटी-ऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो रक्त शिराओं में कॉलेस्ट्रोल को जमा नहीं होने देता। जिसके कारण हृदय संबंधी रोगों के होने की गुंजाइश बेहद कम हो जाती है।

आज के दौर में लोग अधिकतर फास्ट फूड को ही पसंद करते हैं। इस प्रकार का भोजन पाचन तंत्र के लिए बेहद हानिकारक है, लेकिन इसके हानिकारक होने के बारे में पता होने पर भी लोग इसके सेवन नियमित रूप से करते हैं। पपीते में कई प्रकार के पाचक एंजाइम्स होते हैं।

पपीते में एंटी-ऑक्सीडेंट, flavonioids और phytonutrients प्रचुर मात्रा में होते हैं, जो आपकी कोशिकाओं को क्षति पहुंचने नहीं देते। कुछ अध्ययनों ने पपीते के सेवन से कोलन और प्रोस्टेट कैंसर के कम खतरे की पुष्टि भी की है।

पपीते में विटामिन सी, विटामिन ई और बीटा-कैरोटीन जैसे एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। यह सभी विटामिन त्वचा से झुर्रियों को दूर रखते हैं और असमय होने वाली त्वचा की समस्याओं को भी सही करते हैं। इस फल को रोजाना खाने की आदत आपको लंबे समय तक जवां रखने में मदद करती है।

पपीते में विटामिन ए प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो आंखों की रोशनी को कम नहीं होने देता। अधिकतर बढ़ती उम्र में आंखों की रोशनी कम हो जाती है। पपीता अपने आहार में शामिल करने से इस मुसीबत से बचा जा सकता है।

सोर्स: इंडिलिंक्स

Like this article? Or have something to share? Write to us: hibhilwara.com@gmail.com, or connect with us on Facebook and Twitter (@HiBhilwara)